ava krack: Tweetums 🙏
ava Tweetums: Good Morning
ava ABHIRAJ: We Never Pay Attention To
Any Part Of Our Body
Unless It Pains, So Dont
Let It Happen In Relationship,
Good morning my sweetheart my Trycera n friend
ava
Agar Tu Aaj Hi Kar De Mohabbat Humsafar Meri… Kathin Hai Zindagi Kitni Safar Dushwar Kitna Hai

Kabhi Pao’n Nahi’n Chalte Kabhi Rasta Nahi’n Milta

…Faqat Aise Guzaroo’n To Ye Rozo Shab Nahi’n Kat-Te

Ye Kat-Te The Kabhi Pehle Magar Haa’n Ab Nahi’n Kat-Te

Mujhe Phir Bhi Mere Maalik Koi Shikwa Nahi’n Tujhse

Main Jaa’n Pe Khel Sakta Hoo’n, Mai’n Har Dukh Jhel Sakta Hoon

Agar Tu Aaj Hi Kar De Mohabbat Humsafar Meri…
(10:41) Wed, 9 May 12
ava
Mili jo mohabbat ke badle mein nafrat
Hamen ahl-e-duniya ke gham yaad aaye
Hansi aa gai unki baaton pe yunhi
Wo samjhe ki unke karam yaad aaye
(13:50) Wed, 26 Apr 17
ava
Musafir ke raste badalte rahe
Muqaddar mein chalna tha chalte rahe
Suna hai unhen bhi hawa lag gai
Hawaon ke jo rukh badalte rahe
(06:01) Sun, 5 Mar 17
ava
Is safar mein neend aisi kho gai

Ham na soye raat thak kar so gai
(05:59) Sun, 5 Mar 17
ava
jane kis mod per chood kr chali gai zindgi..
abhi abhi sardi pehle hi toh haath thama tha..
dho barishun mein khamosh sadak per bheegtey dhodtey..
dho batoon mein puri raat kaati thi...
dho ansunyon mein manaya tha.....
(18:43) Tue, 20 Sep 16
ava
Wo Acha Hai Tou Behter, Bura Hai Tou Bhi Qubool Mohsin
Mizaj-E-Ishq Men Aib-E-Yar Nahin Dekhay Jatay.....
(06:16) Wed, 24 Aug 16
ava
गुज़र गया आज का दिन भी तमाम ख्वाहिशे लेकर ,
साँसों ने शरीर का दामन ना छोड़ा तो कल फिर मिलेंगे
(06:15) Wed, 24 Aug 16
ava
Ishrat-e-Qatra Hai Darya MeiN Fanah Ho Jana
Dard Kaa Had Se Guzarna Hai Davaa Ho Jana
(06:14) Wed, 24 Aug 16
ava
जिन अफसानों को दूर तक निभाना न हो मुमकिन.

उन्हें एक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ देना बेहतर.
(19:11) Thu, 4 Aug 16
ava
What do you have that is ?
(14:15) Tue, 14 Jun 16
ava
मां की भूख अक्सर तब अक्सर मर जाया करती है...

जब घर में खाने वाले ज़्यादा और खाना कम हो...
(19:50) Tue, 21 Jul 15
ava
"इश्क" का धंधा ही बंघ कर दिया साहेब।....

मुनाफे में “जेब” जले.. और घाटे में “दिल”!!!!
(13:45) Fri, 10 Jul 15
ava
Yeh diye yun hi jalate rehna.
(18:17) Wed, 24 Jun 15
ava
मुझ में ही छुपी है तेरी ज़ात कहीं...
किसी और में दिखती नही तेरे वाली बात कहीं...
.
दिल का हाल सुनाने को तुम्हे जी चाहता है...
कभी एक शाम गुज़ारो मेरे साथ कहीं...
.
कैसे तड़पे है दिल मेरा बिन तुम्हारे सनम...
पता चले तुम्हे बांटो मेरे संग अपने अहसास कहीं...
.
कैसे आंसुओं की बारीश में भीग जाते हैं सिरहाने अक्सर...
जानों तुम भी जो काटनी पड़े मुझ जैसी तुम्हे रात कहीं...
(18:12) Wed, 24 Jun 15
ava
कहाँ तक आँख रोएगी कहाँ तक किसका ग़म होगा;
मेरे जैसा यहाँ कोई न कोई रोज़ कम होगा;
तुझे पाने की कोशिश में कुछ इतना रो चुकी हूँ मैं;
कि तू मिल भी अगर जाये तो अब मिलने का ग़म होगा;
(17:07) Wed, 24 Jun 15
ava
वक्ते-रुखसत .. वो मुझे.. कैसी निशानी ... दे गया ..
प्यार से दिल पर लिखी जो ... इक कहानी दे गया ;
.
रात-दिन रहता है मेरे ... अब मुसलसल साथ .. वो...
खुशनुमा है .. हर सहर ... शामें सुहानी .. दे गया ;
.
वो मेरे .. इंकार को ... इज़हार तो ... कहता रहा...
ले गया .. नादानियां सब ... इक दीवानी दे गया ;
.
अधपके से ... अधखिले से ... थे मेरे .. जज़्बात जो..
आंसुओं की .. उस नदी को .. कुछ रवानी दे गया ;
.
इक शरर से .. आग जो .. उसने ही भड़काई ... कभी ..
जब धुंआ .. उठने लगा ... उसको ही पानी .. दे गया ;
.
उम्र भर अब .. उम्र का .. अहसास भी .. होगा नहीं ...
प्यार से ... भरपूर वो ... ऐसी जवानी ... दे गया ;
.
ज़िंदगी में ... हाँ यकीनन .. ज़िंदगी कुछ .. कम सी थी ..
ज़िंदगी तो ... ले गया पर .... ज़िन्दगानी ... दे गया ..!!
(03:13) Wed, 24 Jun 15